Gariaband

Gariaband New District of Chhattisgarh

मूसलाधार बारिश से पैरी नदी उफान पर, गरियाबन्द-अभनपुर मार्ग में लगा लंबा जाम, 12 घंटे पहले नहीं खुलेगा रास्ता

मूसलाधार बारिश से पैरी नदी उफान पर, गरियाबन्द-अभनपुर मार्ग में लगा लंबा जाम, 12 घंटे पहले नहीं खुलेगा रास्ता

प्रदेश में लगातार हो रही बारिश की वजह कई जिलों में नदी नाले उफान पर चल रहे है. इसी के चलते जिले के सिकासार बांध में छमता से ज्यादा जलभराव होने की वजह से 28 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है. जिसके कारण पैरी नदी का जल स्तर बढ़ गया है. सुबह से ही नेशनल हाइवे के पनटोर के पास जाम लगा हुआ है. नदी में तेज बहाव की वजह से आने वाले 12 घण्टे तक हाईवे बहाल होने की आसार नजर नहीं आ रहे है.

प्राइवेट स्कूल की मनमानी : स्कूल प्रबंधन ने कक्षा 10 वीं के दिव्यांग बच्चे का काटा टीसी, छात्र दुकान चलाने को मजबूर, यह रही वजह…

1-6-990x557.jpg

गरियाबंद. जिले में एक प्राइवेट स्कूल की मनमानी ने दिव्यांग छात्र का भविष्य खतरे में पड़ गया है. बिना सहमति के डोहेल में संचालित बीएचएन शाला प्रबंधन ने दिव्यांग छात्र को स्कूल से बेदखल कर दिया है. वजह पूछने गए पिता को टीसी थमाने की पहले कोशिस की गई. इंकार किया तो डाक से भेज दिया. बेटे के भविष्य दांव पर लगते देख पिता सरकारी दफ्तर व प्रबंधन का चक्कर लगा रहे है. प्राचार्य बोले तीन साल में कभी भी समय पर फ़ीस नहीं चुकाया. डीईओ बोले निकालने का ये कोई ठोस वजह नहीं है. कानून के मुताबिक पालक की सहमति या मांग पर टीसी दिया जाता है. पिता ने कहा बेटे को न्याय नहीं मिला तो कोर्ट की शरण में जाऊंगा.

घर के बाहर खेल रहे बच्चे पर गिरी दीवार, दबने से दर्दनाक मौत, मां ने पोस्टमार्टम ना कराने लिखा पत्र

घर के बाहर खेल रहे बच्चे पर गिरी दीवार, दबने से दर्दनाक मौत, मां ने पोस्टमार्टम ना कराने लिखा पत्र

आज सुबह-सुबह एक दर्दनाक हादसा हो गया है. बच्चा घर के बाहर खेल रहा था उसी दौरान आंगन की पुरानी दीवार गिर गई. जिसके नीचे दबकर 5 साल की बच्चे की मौत हो गई है. हादसे के बाद घर वालों का रो-रोकर बुरा हाल है. घटना मैनपुर थाना के मनेन्द्रगढ़ गांव की है.

जानकारी के मुताबिक आंगनबाड़ी में पढ़ने वाला 5 साल का मासूम मिनेश कुमार आज सुबह आंगनबाड़ी नहीं गया था. घर के बाहर ही खेल रहा था. इसी दौरान पुरानी 6 फीट ऊंची दीवार के पास जाते ही दीवार भर भराकर गिर गई. जिसके नीचे मासूम दब गया. घर वाले कुछ समझ पाते और निकाल पाते इसके पहले उसके सर पर बड़े-बड़े पत्थर पड़ने के चलते वह गंभीर रुप से घायल हो गया.

साइकिल योजना का लाभ दिलाने के नाम पर पैसे वसूलने का आरोप, तो दूसरी ओर योजना में खाना पूर्ति पर भड़के संसदीय सचिव

साइकिल योजना का लाभ दिलाने के नाम पर पैसे वसूलने का आरोप, तो दूसरी ओर योजना में खाना पूर्ति पर भड़के संसदीय सचिव

देवभोग में श्रम विभाग ने साइकिल और सिलाई मशीन वितरण का आयोजन किया था. जिसमें लापरवाही देख भड़के संसदीय सचिव ने श्रम अफसरों से कहा कि सरकार की ऐसी योजनाओं में खाना पूर्ति न करे तो बेहतर होगा. वहीं पेंड्रा में श्रम एवं लोक कल्याण विभाग द्वारा नि:शुल्क साइकिल और औजार देने की योजना में हितग्राहियों से अवैध वसूली करने का मामला सामने आय़ा है. तहसीलदार ने पूरे मामले की जांच कराकर दोषियों पर कार्रवाई करने की बात कहीं है.

पीएम आवास तो मिला नहीं खुद के आवास से भी हुआ ये बुजुर्ग मेहरूम, साहूकार का कर्ज बना मुसीबत…

पीएम आवास तो मिला नहीं खुद के आवास से भी हुआ ये बुजुर्ग मेहरूम, साहूकार का कर्ज बना मुसीबत…

जिले में एक बुजुर्ग को पक्के घर का सपना देखना मंहगा पड गया. बुजुर्ग के पास अब पक्का घर तो दूर खुद का पुराना कच्चा घर भी नही बचा. पीडित अब अपने परिवार के साथ पडोसी की एक छोटी सी कुटिया में रहने पर मजबूर है. यही नहीं बुजुर्ग का पक्का घर का सपना पूरा होगा, इसको लेकर भी संशय बरकरार है.

आपदा से मृत्यु के प्रकरण में राशि स्वीकृत

कलेक्टर ने प्राकृतिक आपदा से मृत्यु के एक मामले में राजस्व पुस्तक परिपत्र 6-4 के तहत मृतका के निकटतम वारिस के लिए 4 लाख रुपए की आर्थिक सहायता राशि स्वीकृति की है। कलेक्टर कार्यालय के अनुसार गरियाबंद तहसील के ग्राम पेण्ड्रा निवासी 35 वर्षीय धनवन्तरी बाई ध्रुव की पानी में डूबने से मृत्यु हो गई थी। इसी प्रकरण में मृतका के पति सोनू कुमार ध्रुव को राजस्व पुस्तक परिपत्र 6-4 के तहत अनुविभागीय अधिकारी राजस्व के माध्यम से 4 लाख रुपए की सहायता राशि प्रदान की जाएगी।

आदिवासी बालक क्रीडा परिसर में 16 से प्रवेश प्रारंभ

आदिवासी बालक क्रीडा परिसर में शैक्षणिक सत्र 2018-19 के लिए 16 जून से खिलाड़ी छात्रों को प्रवेश दिया जाएगा। सहायक आयुक्त आदिवासी विकास गरियाबंद ने बताया कि क्रीडा परिसर में प्रवेश के लिए नियम और शर्ते निर्धारित की गई है, जिसके अनुसार छात्र की आयु की गणना 31 दिसम्बर 2018 की स्थिति में होगी। माध्यमिक स्तर के विद्यार्थियों के लिए अधिकतम आयु 14 वर्ष तथा उच्चतर माध्यमिक स्तर के विद्यार्थियों के लिए अधिकतम आयु 18 वर्ष निर्धारित की गई है।

इस अधिकारी पर लगा लाखो रुपये के गबन का आरोप, सीईओ ने दिये एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश

इस अधिकारी पर लगा लाखो रुपये के गबन का आरोप, सीईओ ने दिये एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश

छुरा जनपद के मनरेगा शाखा में पदस्थ तत्कालीन कार्यक्रम अधिकारी मुकेश करैत के उपर लाखों रूपये का फर्जीवाड़ा किये जाने का आरोप लगा है. जिसके बाद जिला पंचायत सीईओ विनीत नंदवार ने छुरा जनपद सीईओ को मुकेश के विरूद्ध एफआईआर दर्ज करने पत्र जारी किया है.

छुरा जनपद सदस्य डेमन सिन्हा ने कार्यक्रम अधिकारी पर अनियमितता के आरोप लगाते हुए 19 बिन्दुओं पर जांच की मांग की थी. जिसके बाद जिला पंचायत द्वारा गठित टीम ने 19 बिन्दुओं पर जांच की. जांच में पाया गया की मुकेश द्वारा 8 लाख 55 हजार 750 रुपए की अनियमितता की गई है. जांच के दरम्यान करैत को देवभोग जनपद के मनरेगा कार्यक्रम अधिकारी का प्रभार दिया गया था.

नदी में एका-एक बहने लगी दूध की धारा, मामला जानकर दंग रह जाएंगे आप…

नदी में एका-एक बहने लगी दूध की धारा,

गरियाबंद में गुरुवार को दूध की नदी बहने लगी. ऐसा कोई और नहीं बल्कि दूध उत्पादन करने वाले किसानों ने ही किया. किसानों ने अनोखा प्रदर्शन करते हुए पैरा नदी में पूरा दूध बहा दिया. इन्होंने दुग्ध संघ समिति पर दूध खरीदी नहीं करने का आरोप लगाया है.

दूध उत्पादन किसानों का कहना है कि जिले की दुग्ध संघ समिति उनका दूध नहीं खरीद रहे है. साथ ही जिले की दूध समितियां बंद करने का विचार कर रही है. यदि ये समितियां बंद हो गई तो हम कहा दूध बेचेंगे. इसी को लेकर इन किसानों ने अनोखा विरोध प्रदर्शन करते हुए पैरा नदी में कई लीटर दूध बहा दिया.

राशन दुकान पर लटक रहा ताला, हितग्राहियों को 2 माह से नहीं मिला है राशन, सेल्समैन पर गड़बडी करने का आरोप…

राशन दुकान पर लटक रहा ताला

सरकार एक तरफ गरीबों को सस्ते दर पर राशन उपलब्ध करा रही है. तो दूसरी ओर राशन दुकान में गड़बड़ी मामला सामने आ रहा है. दरअसल अड़गडी शासकीय उचित मूल्य की दुकान 2 माह से बंद पड़ी है. जिससे हितग्राहियों को राशन नहीं मिलने से परेशानी हो रही है.

इस चिलचिलाती धूप में हितग्राही राशन लेने पहुंचते तो है लेकिन उन्हें यहां आने के बाद निराशा ही हाथ लगती है. दुकान से राशन नहीं मिलने की वजह से ग्रामीणों के घर में दो वक्त की चुल्हा जलना मुश्किल हो जाता है. पिछले चार दिन से ग्रामीण राशन दुकान का चक्कर लगा रहे है.