शिविर से जन-जन तक पहुंची योजनाएं

DSC_6720-1.jpg

बकावंड विकासखण्ड के तारागांव में बुधवार को जिलास्तरीय जनसमस्या निवारण शिविर लगा। कलेक्टर धनंजय देवांगन ने कहा कि, जनता की समस्या के निवारण के साथ ही शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं और कार्यक्रमों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए जनसमस्या निवारण शिविर लगाया जाता है । जन्म के पूर्व से लेकर मृत्यु के पश्चात तक की योजनाएं शासन की ओर से संचालित की जाती हैं, शिविरों में इन योजनाओं की विस्तृत जानकारी दी जाती है।
देवांगन ने कहा कि, शासन का लक्ष्य लोगों की आमदनी को बढ़ाकर उनके जीवन स्तर को ऊंचा उठाना है। जीवन स्तर को ऊंचा उठाने के लिए आधार को मजबूत करने की आवश्यकता है और यह शिक्षा से ही संभव है। बच्चों के बेहतर बौद्धिक और शारीरिक विकास के लिए बचपन से ही आंगनबाड़ी भेजने की आवश्यकता है। आंगनबाडिय़ों में बच्चों को पढ़ाई और खेलकूद के साथ-साथ पोषण का ध्यान रखा जाता है। इसके साथ ही यहां गर्भवती महिलाओं, धात्री माताएं और शिशुओं के साथ ही किशोरी और शालात्यागी बालिकाओं के कल्याण के लिए भी योजनाएं संचालित की जाती हैं। बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिए उन्हें नियमित स्कूल भेजने की आवश्यकता है, जहां शासन की ओर से नि:शुल्क शिक्षा के साथ ही पाठ्य पुस्तक, गणवेश, मध्यान्ह भोजन और बालिकाओं को साइकिल भी प्रदान किया जाता है।
कलेक्टर ने युवाओं से भी आह्वान किया कि वे अपने हुनर को निखारे, जिससे उनकी आमदनी बढ़े। बकावंड विकासखण्ड में ही 2 हजार प्रधानमंत्री आवास का निर्माण किया जा रहा है। शासन की ओर से किए जा रहे निर्माण कार्यों के लिए निपूर्ण राजमिस्त्री, इलेक्ट्रिशियन, प्लम्बर की आवश्यकता है। इसके साथ ही पुट्टी करने तथा टाइल्स फिटिंग्स के क्षेत्र में दक्ष लोगों की मांग निरंतर बढ़ रही है। शासन की ओर से नि:शुल्क प्रशिक्षण की व्यवस्था की गई है, जहां आवास और भोजन भी नि:शुल्क उपलब्ध है। उन्होंने ग्रामीणों से आह्वान किया कि वे शासन की योजनाओं के संबंध उच्चाधिकारियों से भी जानकारी लें। शासन की योजनाओं के संबंध में ग्राम पंचायतों में भी विस्तृत जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

Source: 
visionnewsservice.in

Related News