Kanker

CG-19, Kanker

नक्सलियों ने की ग्रामीण की हत्या, फेंका पर्चा

नक्सलियों ने की ग्रामीण की हत्या, फेंका पर्चा

जिले में एक बार फिर नक्सलियों का काला चेहरा सामने आया है, मुखबिरी के शक में नक्सलियों ने एक ग्रामीण की हत्या कर दी. मृतक ग्रामीण का नाम अजीत पोद्दार है, घटना बीति रात की बताई जा रही है. बांदे थाना क्षेत्र के परलकोट विलेज 111 के रहने वाले अजीत के घर दो दर्जन से ज्यादा नक्सलियों ने हमला कर दिया और उन्हें घर से बाहर निकालकर बीच सड़क में गोली मारकर हत्या कर दी.

नक्सलियों ने की युवक की हत्या

कांकेर जिले के इरपानार में नक्सलियों ने युवक की गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस का मुखबिर होने का आरोप लगाकर नक्सलियों ने इस घटना को अंजाम दिया। बांदे थाना पुलिस मामले में कार्रवाई कर रही है।
बांदे थाना प्रभारी अमोल खलखो ने कहा कि, इरपानार में बुधवार देर रात नक्सलियों ने अजीत पोद्दार नामक युवक की गोली मारकर हत्या की है। युवक के सीने में गोली मारी गई है। घटना में कितने नक्सली शमिल थे इसका खुलासा नहीं हो सका है। नक्सली युवक पर पुलिस का मुखबिर होने का आरोप लगा रहे थे। फिलहाल युवक की लाश का पीएम कराया जा रहा है। थाना प्रभारी अमोल खलखो ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है।

नक्सली दहशत, गांव है पर रह नहीं सकते, खेत है पर बो नहीं सकते

नक्सली दहशत, गांव है पर रह नहीं सकते, खेत है पर बो नहीं सकते

गांव है, पर रह नहीं पाते, खेत है पर जोताई नहीं कर पाते, रिश्तेदार हैं पर उनके साथ रहकर दु:ख-सुख नहीं बांट पाते। यह हाल है अनिल, चंद्रूराम, रामप्रसाद, बंसीलाल जैसे सैकड़ों किसानों का जो नक्सली दहशत के चलते अपना गांव, घर-द्वार छोड़कर कई साल से दूसरे गांव में बसे हुए हैं। इनका इससे भी एक बड़ा दर्द यह है कि आज जब छत्तीसगढ़ सरकार धान बोनस बांट रही है, ऐसे में खेत होते हुए भी ये बोनस के लाभ से वंचित हैं। कारण, ये अपने खेत में फसल नहीं ले पा रहे हैं। अंतागढ़ विकासखंड के चिंगनार, कोसरोंडा जैसे अति संवेदनशील गांवों के कई किसानों को नक्सली दहशत के चलते अपना गांव और खेत छोडऩा पड़ा। 1997 के दशक में जब नक्

कांकेर पुलिस पहाड़ पर बसे गांवों तक बनाएगी सड़क

कांकेर पुलिस इन दिनों जिले के पिछड़े हुए गांवों में काम कर रही है। यह पहला प्रयोग है जिसके तहत कांकेर पुलिस ने एक गांव गोद लिया है। जो पहाड़ी के ऊपर स्थित है, जहां पर यदि कोई आपात स्थिति निर्मित हो जाए तो शहर तक आने में ही दिनभर लग जाते हैं। ऐसे हालात से बचने के लिए ही पुलिस ने मोर मितान कांकेर अभियान शुरु किया है। कांकेर पुलिस की ओर से किया जा रहा यह प्रयोग प्रदेश में अपनी तरह का अनूठा प्रयोग है।
00 10 नवम्बर से शुरू होगा काम :

कांकेर में मिला दो किलो का जिंदा बम, निष्क्रिय

शुक्रवार दोपहर मुखबिर की सूचना पर निकली सर्चिंग टीम को कांकेर जिले के मरकानार जंगल में दो किलो का जिंदा टिफीन बम मिला। टीम ने बम को मौंके पर ही निष्क्रिय किया। कांकेर पुलिस अधीक्षक केएल ध्रुव ने कहा कि, मुखबिर ने सड़क किनारे वायर देखने की सूचना दी थी। जिले के कोयलीबेड़ा थाना क्षेत्र से शुक्रवार सुबह मरकानार जंगल के लिए रवाना हुई। मौके पर सुरक्षा बलों को दो किलो वजनी टिफीन बम मिला। बम को सुरक्षित बाहर निकला गया और निष्क्रिय किया गया। एसपी ने कहा कि, बम अधिक शक्तिशाली नहीं था।

जब लालच बनी इस भालू के लिए बला, जानिए फिर क्या हुआ

जब लालच बनी इस भालू के लिए बला, जानिए फिर क्या हुआ

कहते हैं लालच बुरी बला, ऐसे ही शहद के लालच में एक भालू पेड़ पर चढ़ गया लेकिन शहद तो मिला नहीं अलबत्ता बेचारा मुसीबत में फंस गया. दरअसल कांकेर के नजदीक भिरावाही गांव में नारियल के पेड़ पर मधुमक्खी के छत्ते की सुगंध पाकर मंगलवार सुबह भालू एक पेड़ में चढ़ गया.

भिरावाही बस्ती में नीम पेड़ पर अलसुबह ग्रामीणों ने भालू देखा। पास के नारियल पेड़ पर मधुमक्खी का छत्ता हैं जिससे वह शहद निकाल कर पीना चाहता था. इसके पहले उजाला हो गया और डर कर भालू नीम के पेड़ पर चढ़ गया. बताया जा रहा है कि भालू पड़े से नीचे उतरने की कोशिश करने लगा लेकिन वहां जमा भीड़ के हो हल्ला करने के बाद वह वापस पेड़ में चढ़ गया.

शराब की अवैध बिक्री करने वालों की खैर नहीं, गुलाबी गैंग सिखाएगी सबक

शराब की अवैध बिक्री करने वालों की खैर नहीं, गुलाबी गैंग सिखाएगी सबक

अवैध शराब बेचने वाले और शराब पीकर हुडंदंग करने वालों की अब खैर नहीं. शहर से लगे गोविंदपुर गांव में शराबियों के हुडदंग से तंग आकर गुलाबी गैंग की महिलाएं लामबंद हो गई हैं. दरअसल गोविंदपुर गांव में शराबियों के उत्पात और महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार की घटनाएं बढ़ती जा रही थीं. ऐसे में गुलाबी गैंग ने खुद शराबियों के सबक सिखाने का बीड़ा उठा लिया है.

कांकेर में महिला सहित 4 नक्सली गिरफ्तार

छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले में सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने गुरूवार को एक महिला नक्सली सहित चार नक्सलियों को गिरफ्तार किया। कांकेर पुलिस अधीक्षक के.एल. ध्रुव ने कहा कि, सीमा सुरक्षा बल के 125वीं और 35वीं बटालियन ने ये कार्रवाई की है। कोयलीबेड़ा थाना इलाके से जवानों ने चारों नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार नक्सलियों के पास से दो भरमार बंदूक और दो किलो का टिफिन बम भी बरामद हुआ है। इसके अलावा कुछ बैनर और नक्सली साहित्य भी बरामद हुए हैं। सुरक्षा बलों को लंबे समय से इस इलाके में नक्सलियों की संदिग्ध गतिविधियों की सूचना मिल रही थी। मुखबिर की सूचना के आधार घेराबंदी की गई।

कांकेर ने सीताफल की आइक्रीम और शिक्षा से बनाई अलग पहचान : रमन

सीताफल की आइस्क्रीम और शिक्षा के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले ने अपनी अलग पहचान बनाई है। कांकेर के महिला स्वसहायता समूह की ओर से बनाई जाने वाली आइस्क्रीम को राजधानी सहित पूरे प्रदेश में पसंद किया जाता है। बहनों के इस काम के कारण कांकेर सीताफल जिला भी कहलाता। वहीं शिक्षा में कांकेर का प्रदर्शन अच्छा है। ये बातें मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कही। वे बुधवार को मुख्यमंत्री यहां 22 से 30 सितंबर तक चलने वाले गढिय़ा महोत्सव में शामिल हुए।

अंतागढ़ में नक्सलियों ने पेड़ काटकर रास्ता बंद किया

Naxali New

कांकेर जिले के अंतागढ़ क्षेत्र में नक्सलियों ने पेड़ काट कर मार्ग बाधित किया है। टेमरुपानी गांव के मुख्य मार्ग में नक्सलियों ने पेड़ काटा है। सूचना पर बीएसएफ और पुलिस ने मौके पर पहुंच कर रास्ता बहाल किया है। अन्तागढ़ टीआई ने की घटना की पुष्टि की है।